Jeet jayenge Hum

Just another weblog

12 Posts

51 comments

parmodrisalia


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

कौन कहता है कि हमारा देश आजाद है

Posted On: 29 Jan, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

किस मिट्टी के बने हैं रवीश कुमार

Posted On: 20 Jan, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

1 Comment

वी स्पेशल थेंकफुल टू गर्वमेंट आफ इंडियाः प्याज

Posted On: 17 Jan, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

चवन्नी के एक सौ दीये…..

Posted On: 30 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.25 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

6 Comments

जय हो पत्रकार महाराज की

Posted On: 26 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ में

0 Comment

राम के पड़ोसी है रहिम

Posted On: 22 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

35 Comments

हम युवा…..

Posted On: 18 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 3.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

क्यों भूल जातें हैं जन्मदाता को ?

Posted On: 16 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

प्रमोद जी, वाकई रवीश जी की रिपोर्टिंग में कुछ तो ख़ास है.............मैंने बिहार में चुनाव से पूर्व रवीश जी की रिपोर्टिंग देखी थी................. यू पी के बुलंदशहर जिले के 'गढ़' नामक स्थान पर होने वाले गंगा स्नान के मेले की रिपोर्टिंग देखी........... मैं तो रवीश जी का कायल हो गया था............. उन्होंने बारीक निगाहों से एक एक चीज की ऐसी व्याख्या की, अर्थतंत्र की व्याख्या की.........अद्भुत...... अन्य पत्रकारों के विपरीत वे बिना कंधे उचकाए, बिना लाउड बोले, बिना भारी भरकम शब्दों के, हल्की आवाज में वो बोल जाते हैं, जो हल्ला मचने वाले टीवी पत्रकार कभी सोच भी नहीं सकते..... क्योंकि शायद उनके अनुसार अदाओं के साथ बोलना, जोर से बोलना और अपनी बात को जबरदस्ती थोपना ही बड़ा पत्रकार होने की निशानी है........... धन्यवाद प्रमोद जी, आपके कारण रवीश कुमार जी पर चर्चा हो गयी. आदित्य www.aditya.jagranjucntion.com

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:




latest from jagran